शनिवार, 27 अप्रैल 2019

श्रीलंका में दाएश का हमला समूचे भारतीय-भूखंड के लिए सबक और चेतावनी


सीरिया में पिटाई के बाद लगता था कि इस्लामिक स्टेट कहीं न कहीं सिर उठाएगा। उसे अपनी उपस्थिति का एहसास कराना है। श्रीलंका में रविवार को हुई हिंसा की जिम्मेदारी लेकर उसने इस बात को साबित किया है। अभी तक दक्षिण एशिया उसके निशाने से बचा हुआ था। यों 2016 में बांग्लादेश की घटनाओं के बाद कहा गया था कि वहाँ इस्लामिक स्टेट जड़ें जमा रहा है। कश्मीर घाटी में अक्सर उसके काले झंडे नजर आते हैं। फिर भी इस्लामिक स्टेट के खतरे को बहुत गम्भीरता से नहीं देखा गया। श्रीलंका की हिंसा भारत के लिए ही नहीं दक्षिण एशिया के सभी देशों के लिए चेतावनी है।
श्रीलंका में तकरीबन दस साल से चली आ रही शांति जिस भयानक हत्याकांड से भंग हुई है, वह समूचे भारत-भूखंड के लिए खतरे की घंटी है। दुनिया की सबसे बहुरंगी-बहुल संस्कृति वाला समाज इसी इलाके में रहता है। करीब तीन दशक तक चले तमिल-गृहयुद्ध के बाद उम्मीद थी कि श्रीलंका के निवासी जातीय-साम्प्रदायिक आधारों पर अपने आपको बाँटने के बजाय सामूहिक सुख-समृद्धि के रास्ते तैयार करेंगे। इन कोशिशों को तोड़ने के प्रयास अब फिर शुरू हो गए हैं। बहरहाल श्रीलंका की प्रशासनिक-व्यवस्था ने इस हिंसा के बाद सम्भावित टकराव को रोकने में सफलता हासिल की है।

श्रीलंका में साम्प्रदायिक टकराव का लम्बा इतिहास है। लिट्टे के आंदोलन के दौरान भी मुसलमानों पर हमले हुए थे। हाल के वर्षों में बौद्ध समूहों ने भी उनपर हमले किए हैं। क्राइस्टचर्च तथा दुनिया के दूसरे इलाकों की घटनाओं के उदाहरण देते हुए भी मुसलमान युवकों को भड़काया जा सकता है। दुनिया में वहाबी विचार का प्रचार भी मुसलमानों के एक तबके को प्रभावित कर रहा है, पर श्रीलंका के ही नहीं पूरे दक्षिण एशिया के मुसलमानों की मुख्यधारा इस किस्म के टकरावों के पक्ष में नहीं है।
श्रीलंका का सबक दक्षिण एशिया के सभी देशों के लिए है। फिलहाल पहली जरूरत इस बात की है कि समुदायों के बीच वैमनस्य न बढ़े, वे एक-दूसरे के करीब आएं। इस हत्याकांड का सीधा असर देश की अर्थव्यवस्था पर भी पड़ेगा, जो पहले से बेहाल है। अर्थव्यवस्था ही नहीं देश की राजनीति भी टेढ़ी चाल चल रही है। इस साल वहाँ राष्ट्रपति चुनाव भी होने वाले हैं। इस हादसे के कारण राजनीति में विचलन नहीं आना चाहिए, बल्कि उसकी जिम्मेदारी है कि वह समझदारी का परिचय दे।
इस्लामिक स्टेट का हाथ
ईस्टर संडे को हुए बम धमाकों की जिम्मेदारी किसी पहले दो रोज किसी समूह ने नहीं ली थी, इससे अनुमान लगा पाना मुश्किल हो रहा था कि इनके पीछे किसका हाथ हो सकता है। तीसरे रोज दाएश की समाचार एजेंसी अमाक़ ने दावा किया कि ये धमाके उनकी प्रेरणा से किए गए हैं। इसके पहले सरकार ने कहा था कि शक की सूई नेशनल जमाते तौहीद (एनजेटी) पर है। पर, यह समझने में दिक्कत हो रही थी कि यह संगठन ईसाई गिरजाघरों और विदेशियों पर हमले क्यों करेगा।
इसरायली अखबार जेरूसलम पोस्ट ने लिखा है कि इस हमले का मास्टरमाइंड तौहीद-जमात का मौलवी ज़हरान हाशिम है। इसे श्रीलंका का ज़ाकिर नाइक कहा जाता है, जो टीवी पर अपने विचार का प्रचार करता है। हालांकि यह संगठन आक्रामक है, पर इसपर इस किस्म की हिंसा के आरोप नहीं लगे हैं। मूलतः इसकी सिंहली बौद्धों से नाराजगी है।
हैरत इस बात पर भी है कि दस रोज पहले सरकार के पास सूचना थी कि देशभर में और भारतीय उच्चायोग पर हमले हो सकते हैं, फिर भी एहतियातन कुछ किया नहीं गया। जैसे-जैसे इस मामले की जाँच आगे बढ़ रही है, वैसे-वैसे कुछ हैरतंगेज़ जानकारियाँ सामने आ रहीं हैं। मसलन विस्फोट करने वाले आत्मघातियों का जो विवरण सामने आ रहा है, उनमें से, एक को छोड़, किसी के खिलाफ पहले आपराधिक मामले दर्ज नहीं हैं। कोलम्बो के शांग्रीला होटल में विस्फोट करने वाला व्यक्ति तो देश के अमीर कारोबारी घराने से ताल्लुक रखता है। सन 2016 में बांग्लादेश के कैफे में हिंसा करने वाले भी पढ़े-लिखे लोग थे।
अंतरराष्ट्रीय साज़िश
इसके पहले दक्षिण एशिया में सक्रिय किसी आतंकी संगठन ने श्रीलंका को निशाना नहीं बनाया था। इसबार क्यों? सम्भव है कि तौहीद को इस्लामिक स्टेट ने अपने साथ जोड़ा हो, पर क्यों? इस संगठन से मिलते-जुलते नाम का एक और संगठन देश में है श्रीलंका तौहीद-जमात। इस संगठन ने इस कांड की न केवल निंदा की है, बल्कि इस मौके पर रक्तदान के लिए आगे भी आया है।
कनाडा के इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रैटेजिक डायलॉग के श्रीलंका मूल के एक विशेषज्ञ अमरनाथ अमरसिंघम का कहना है कि टारगेट के चयन, हमले के प्रकार और दूसरे तत्वों को देखते हुए लगता है कि इसका नियंत्रण कहीं बाहर से हो रहा था। यह स्थानीय समूहों के बस की बात थी ही नहीं। इसी वजह से यह सुरक्षा एजेंसियों की निगाहों में नहीं आया। गिरजाघरों पर हमलों से बी यही निष्कर्ष निकलता है कि साज़िश रचने वाले विदेशी हैं।
श्रीलंका में ईसाइयों और मुसलमानों के बीच टकराव है ही नहीं। अमरसिंघम का कहना है कि सन 2014-16 में जब इस्लामिक खिलाफत का संग्राम चल रहा था, तब श्रीलंका से 32 नौजवान लड़ने के लिए सीरिया गए थे। शायद इस लड़ाई से वापस लौटने वाले लोग ही इसके पीछे हैं। साइट इंटेलिजेंस ग्रुप से जुड़ी रीटा काट्ज ने अपने ट्वीटों की श्रृंखला में उन तथ्यों को जोड़ा है, जिनसे साफ हो रहा था कि इसके पीछे दाएश का हाथ है।
बहरहाल इस मामले ने भारत की चिंता बढ़ा दी है। सवाल है कि श्रीलंका का आतंकी गिरोह भारतीय उच्चायोग को निशाना क्यों बनाना चाहता था? भारतीय चुनाव के माहौल को देखते हुए यह घटना महत्वपूर्ण हो गई है। इस इलाके के देशों को अब बेहतर समन्वय की जरूरत होगी। इस खूंरेज़ी के साथ-साथ यह बात भी ज़ाहिर हुई है कि देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के बीच की अनबन के कारण सूचनाओं का आदान-प्रदान भी नहीं हुआ। देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दोनों का कहना है कि हमले की खुफिया सूचना थी, तो हमें किसी ने नहीं बताया।
जानकारी थी, फिर भी...
इन सिलसिलेवार बम धमाकों के बाद 321 या इससे भी ज्यादा लोगों के मरने की खबरें हैं। पुलिस ने एक जगह से 87 डेटोनेटर बरामद किए। कई जगहों से हथियारों को बरामद किया जा रहा है। ज़ाहिर है कि यह योजना काफी बड़ी और सुनियोजित थी। दूसरे यह भी कि श्रीलंका के सुरक्षा-प्रतिष्ठान ने इस मामले में असावधानी बरती। खुफिया विभाग की साफ जानकारी के बावजूद सुरक्षा बल बैठे रह गए। देश में लिट्टे के साथ खूनी संघर्ष के खत्म होने के बाद करीब एक दशक से श्रीलंका में जारी शांति भी इस घटना से भंग हो गई है।
श्रीलंका की सरकार के भीतर अब इस बात को लेकर चर्चा है कि इंटेलिजेंस एजेंसियों को जब पहले से इन हमलों की जानकारी थी, तब एहतियातन कार्रवाई क्यों नहीं की गई? रविवार को ही श्रीलंका के दूरसंचार मंत्री हरीन फर्नांडो ने अपने ट्वीट में 11 अप्रैल को जारी खुफिया संगठन की एक सूचना की तस्वीर लगाई, जिसमें इस किस्म के हादसे का अंदेशा व्यक्त किया गया था। इसके अनुसार एक डीआईजी प्रियलाल दसनायके ने लिखा था कि राष्ट्रीय तौहीद जमात (जमात-अत-तौहीद अलवतनिया) नामक संगठन देशभर में हिंसक हमले करने की योजना बना रहा है।
इस बात की पुष्टि भी हुई है कि भारतीय खुफिया एजेंसियों ने भी श्रीलंका को सूचना दी थी कि वहाँ हिंसक कार्रवाई हो सकती है। गिरजाघरों के अलावा भारतीय उच्चायोग पर हमले का अंदेशा भी था। सिनैमॉन ग्रैंड होटल से गिरफ्तार एक व्यक्ति पिछले छह महीने से लापता था। उसके परिवार को उसके बारे में जानकारी नहीं थी।
राजनीतिक अंतर्विरोध
प्रधानमंत्री रानिल विक्रमासिंघे ने कहा है कि हमलों की पहले से जानकारी थी, पर मुझे नहीं दी गई। श्रीलंका में सुरक्षा बल राष्ट्रपति के अधीन काम करते हैं। यानी कि देश की आंतरिक राजनीति में पिछले कुछ महीनों से चला आ रहा टकराव भी प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से इस हादसे का एक कारण हो सकता है। राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरीसेना और प्रधानमंत्री रानिल विक्रमासिंघे का टकराव अब भी जारी है।  
रक्षामंत्री रूवन विजयवर्धने ने पहले रोज ही कहा कि हमलावरों की पहचान हो गई है। ज्यादातर विस्फोटों में आत्मघाती बमबारों का हाथ था। कम से कम सात विस्फोट में एक या एक से ज्यादा आत्मघाती बमबार शामिल थे। सुरक्षा बलों ने पहले रोज ही आठ लोगों को गिरफ्तार करने का दावा किया था। उसके अगले दिन बड़ी संख्या में गिरफ्तारियाँ और हुईं। सरकार ने सोशल मीडिया पर फौरन रोक लगाई है।
पिछले साल मार्च में देश के कुछ इलाकों में साम्प्रदायिक हिंसा हुई थी। कई जगहों पर बौद्धों की भीड़ ने मुसलमानों की मस्जिदों, दुकानों और घरों पर हमले किए थे। देश की 2.2 करोड़ की आबादी में करीब 65 से 70 फीसदी सिंहली बौद्ध हैं और करीब 20 फीसदी तमिल। दस फीसदी से कम मुसलमान हैं और करीब 7 फीसदी ईसाई। ईसाइयों में तमिल और सिंहली दोनों शामिल हैं। चूंकि हमले ईस्टर के रोज खासतौर से चर्चों पर हुए हैं, इसलिए लगता है कि निशाने पर ईसाई थे। दूसरा निशाना होटलों में रहने वाले विदेशी थे। नवम्बर, 2018 में हुए मुम्बई हमलों में भी दो होटलों और एक यहूदी प्रार्थना-स्थल को निशाना बनाया गया था। हालांकि दोनों घटनाओं के बीच फर्क भी कई तरह के हैं। मुम्बई हमला केवल एक शहर में हुआ था। यह हमला कई शहरों में हुआ है।

Box
क्या है तौहीद जमात
जमात-अत-तौहीद अलवतनिया का अर्थ है राष्ट्रीय एकता समूह। यह ग्रुप अपनी समझ वाली इस्लामिक विचारधारा का प्रचार करता है। यह सन 2014 में ही बना है। इसका लक्ष्य वैश्विक जेहादी विचारों का श्रीलंका में प्रसार करना है। इसकी हिंसक प्रवृत्तियों को देखा जाए, तो यह बौद्ध हिंसा के प्रतिरोध में खड़ा है। सवाल है कि इसका निशाना गिरजाघर क्यों बनेंगे? श्रीलंका के मुसलमानों के अनेक संगठन इसकी भर्त्सना करते रहे हैं। इस घटना से बेशक अंदेशा होता है कि शायद इसके पीछे इस्लामिक स्टेट या अल कायदा जैसे किसी बड़े वैश्विक जेहादी संगठन का हाथ है, पर तौहीद जमात यह काम करेगी, इसे पूरे यकीन के साथ कहना मुश्किल है। इस संगठन के खड़े होने के पीछे एक कारण श्रीलंका के बौद्ध ग्रुपों के हिंसक हमलों की प्रतिक्रिया है।
बौद्ध चरमपंथी समूहों का अध्ययन करने वाले ऑब्ज़र्वर रिसर्च फाउंडेशन, मुम्बई के अध्येता कबीर तनेजा के अनुसार यह समूह बौद्ध हिंसा के जवाब में उभरा था। यह ज्यादा से ज्यादा बौद्ध प्रतिमाओं को तोड़ता-फोड़ता रहा है। नवम्बर 2016 में इसके सचिव अब्दुल रज़ीक को गिरफ्तार भी किया गया था। उसके चार महीने बाद बट्टीकलोआ के पास कट्टानकुडी क्षेत्र में एक हिंसक घटना हुई थी। रविवार को उसी इलाके में एक गिरजाघर में भी विस्फोट हुए हैं।
नई दिल्ली के सेंटर फॉर पॉलिसी रिसर्च के ब्रह्म चेलानी के अनुसार तौहीद जमात नाम के एक ग्रुप तमिलनाडु में भी है। कुछ दूसरे देशों में जहाँ श्रीलंकाई मूल के लोग रहते हैं, इसी नाम के समूह हैं। बहरहाल इन समूहों के बीच सम्पर्कों को लेकर अनुमान लगाने में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। हाँ, यह लगता है कि इस समूह से युवा वर्ग जुड़ा है और मदरसों से निकलने वाले नए छात्र इसमें शामिल हैं।


2 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन सरदार हरि सिंह नलवा और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. गंभीर विषय पर विचारणीय आलेख । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...